अक्टूबर और रैम्पेज को मिला मिक्स्ड रिव्यु, मरकरी की ख़ामोशी ने दर्शकों को बांधे रखा

अक्टूबर और रैम्पेज को मिला मिक्स्ड रिव्यु, मरकरी की ख़ामोशी ने दर्शकों को बांधे रखा

फिल्म- अक्टूबर

कास्ट- वरुण धवन, बनिता संधू, गीतांजलि राव

निदेशक-  शूजीत सरकार

लेखक- जूही चतुर्वेदी

जेनर- ड्रामा, रोमांस

अवधि- 116 मिनट

प्लाट- डान(वरुण धवन) और शिऔलि(बनिता संधू) एक साथ एक ही होटल में इंटर्न के तौर पर काम कर रहे थे कि तभी शिऔलि अस्पताल में भारती हो जाती है और डान को एहसास होता है कि शायद शिऔलि उससे प्यार करती है। इसी एहसास के साथ वो उसे देखने और सँभालने चल जाता है।

पब्लिक रिव्यु- फिल्म की कहानी, लेखन और अभिनय की यूँ तो हर कोई प्रशंसा कर रहे हैं लेकिन फिल्म की गति को लेकर दर्शक थोड़े बंटे हुए दिखेंगे।

 

 

 

कई लोग मजाक में कमेंट में कह रहे है कि फिल्म की एक्ट्रेस ICU में हैं और आप कोमा में।

 

बावजूद इसके फिल्म की संजीदगी और शूजित सरकार के निर्देशन की सभी तारीफ़ कर रहे हैं।

 

       Navodayatimes

फिल्म- मरकरी

कास्ट- प्रभुदेवा, सनंथ रेड्डी, दीपक परमेश, इन्धुजा 

निदेशक, लेखक-  कार्तिक सुब्बाराज 

जेनर- थ्रिलर, हॉरर

अवधि- 109 मिनट

प्लाट- फिल्म की कहानी, पांच ऐसे दोस्तों की हैं, जो कॉर्पोरेट अर्थ नाम की कंपनी की लापरवाही से मरकरी लीकेज के शिकार हो जाते हैं और जिसकी वजह से वो अपनी आवाज खो बैठते हैं। ऐसे में इस कंपनी के बंद होने की ख़ुशी में ये पाँचों पार्टी करते हैं। लेकीन उनकी ये ख़ुशी तब डर में बदल जाती है जब ये पांचों कॉर्पोरेट अर्थ की फैक्ट्री में पहुँच जाते हैं और वहां उन्हें खुद को उसी मरकरी लीकेज के शिकार हुए ज़ोंबी(प्रभुदेवा) से खुद को बचाना होता है   

पब्लिक रिव्यु- राजा हरिश्चंद्र और पुष्कर जैसे साइलेंट फिल्मों को ट्रिब्यूट देती ये फिल्म दर्शकों के साथ साथ क्रिटिक्स को भी बेहद अची लगी हैं। बिना किसी डायलॉग के जिस तरह से निर्देशक कार्तिक ने फिल्म में हॉरर और सस्पेंस को बनाये रखा, उसकी तारीफ़ हर कोई करते दिखा।

एक्टर, डायरेक्टर, कोरियोग्राफर, प्रभुदेवा को भी एकदम नए लुक और किरदार में देखने का मजा दर्शकों के लिए कुछ और ही था।

फिल्म को विदेशों में भी काफी पसंद किया जा रहा है।

 

लेकिन फिल्म की म्यूजिक और बैकग्राउंड स्कोर को लेकर क्रिटिक्स आलोचना करते दिखे हैं। उनके अनुसार फिल्म में इस्तेमाल हुए लाउड म्यूजिक ने फिल्म के सस्पेंस को काफी हद तक ख़त्म कर दिया था।

Navodayatimes

फिल्म- रैम्पेज

कास्ट- ड्वेन ‘द रॉक’ जॉनसन, नाओमी हैरिस,मलिन एकरमैन, जेफरी डीन मॉर्गन

निर्देशक- ब्रैड पीटन

जेनर- साइंस फिक्शन मोंस्टर, एक्शन, एडवेंचर

अवधि- 107 मिनट

प्लाट- प्रीमाटोलोजिस्त डेविस ओकोये(ड्वेन जॉनसन) को जब मालूम चलता है कि उनके जू का अल्बिनो गोरिल्ला, जॉर्ज, भेड़िया राल्फ और अमेरिकन क्रोकोडाइल लिजी एक रहस्यमयी गैस के चलते विशाल, भावहीन हिंसक जानवर में तब्दील होकर पुरे शहर में तबाही मचाने लगते हैं तब डेविस जेनेटिक इंजिनियर डॉ। केट काल्डवेल (नाओमी हैरिस) के साथ मिलकर अपने गोरिला दोस्त जॉर्ज को बचाना है, साथ में लिजी और राल्फ से शहर को बचाना है।

पब्लिक रिव्यु- ड्वेन की पिछली कुछ फिल्मों की तरह इस फिल्म को भी दर्शकों का मिला-जुला रेस्पोंस मिल रहा है। अस्सी के दशक की फेमस विडियो गेम रैम्पेज से प्रेणित इस फिल्म में ऐसा कुछ नया नहीं है जो आपने पहले नहीं देखा हो।

 

 

रॉक की पिछली फिल्मों जैसे, सैन एंड्रियास, जुमांजी, रनडाउन, जहाँ रॉक अपने भीमकाय शरीर के साथ शेर, चीतों से लड़ते हुए और पुरे शहर को बचाते हुए दिखे थे। इस फिल्म में भी कुछ नया नहीं है।

 

 

 

इसीलिए जहाँ दर्शकों को ये माइंडलेस एक्शन फिल्म पसंद आ रही है वहीं कईयों को फिल्म में ना कुछ नया दिख रहा है और ना ही कहानी में।

        Navodayatimes